Yahya Bootwala Poetry Lyrics in Hindi – Yahya Bootwala

Yahya Bootwala Poetry Lyrics in Hindi : One of the heart touching poetry by Yahya Bootwala presented on spill poetry YouTube Label. 

Yahya-Bootwala-Poetry-Lyrics-in-Hindi

Yahya Bootwala Poetry Lyrics in Hindi –  Yahya Bootwala


पहली नज़र में तुमने उसे देखा और उसने तुम्हें

और इस love at first sight को तुम मोहब्बत कह रहे हो

तो हो सकता हैं तुम गलत हो…!


क्योंकि यार पहली नज़र में तो हमे Antique चीज़े भी पसंद आ जाती हैं

पर हम उसे घर में रखते हैं दिखाने के लिए..


बस क्योंकि देर रात तक तुम दोनों एक दूसरे से ढेर सारी बाते करते हो 

और इसे तुम मोहब्बत समझते हो 

तों हो सकता हैं तुम गलत हो….!


क्योंकि यार अकेलेपन के मारे तो दो अनजान मुसाफिर भी एक दूसरे से बात कर ही लेते हैं..


अरे अगर किसी लड़की को देख कर वो तुम्हारा हाथ पकड़ लेती हैं 

और किसी लड़के को देख कर तुम उसका 

और इस cute jealousy को तुम मोहब्बत कह रहे हो 

तो हो सकता हैं तुम गलत हो…!


क्योंकि यार परिंदों को पकड़ा जाता हैं पिंजरे में कैद करने के लिए

उन्हे आज़ाद करने के लिए नहीं..


बस क्योंकि अब तुम दोनों एक दूसरे की बातो को समझ पा रहे हो 

और इसे तुम मोहब्बत कहते हो 

तो हो सकता हैं तुम गलत हो…! 


क्योंकि याद रखो..!  

2 भूखे भिखारी भी एक दूसरे की भूख समझ सकते हैं 

पर मिटा नहीं सकते..


अरे अगर तुम anniversary का celebration हर महीने कर रहे हो 

और इसे तुम मोहब्बत कहते हो 

तो हो सकता हैं तुम गलत हो….!


क्योंकि दास्ताँ-ए-इश्क़ को बयान करने के लिए साल का कोई नंबर नहीं चाहिए होता..


अरे बस क्योंकि तुम उसकी इंस्टा-स्टोरीज का

और वो तुम्हारी स्नेप-स्टोरीज का हिस्सा बन चुकी हैं 

और इसे तुम मोहब्बत कहते हो 

तो हो सकता हैं तुम गलत हो….!


क्योंकि यार मोहब्बत को Filtero के साथ Save नहीं किया जाता 

उसे बस उसी लम्हें में जिया जाता हैं..


हां लेकिन अगर जिस्मों में उलझने से पहले तुम उसकी ज़ुल्फो में उलझना चाहते हो

अगर वो बेख़ौफ़ अपना बचपना तुम्हारे सामने जाया कर देती हैं 

उसके कपड़ो के बेपर्दा होने से पहले तुमने अपने सारे राज उसके सामने खोल दिए 

और उसने भी अपने सारे डर का ज़िक्र तुम्हारे सामने कर दिया हैं, 

उसका हर आंसू तुम्हारे ही कमीज पर बहता हो 

और तुम्हारे मुस्कान की वजह उसकी नादानियाँ हो 

तो शायद, शायद नहीं यार.. यही प्यार हैं 

और अगर ये यही प्यार हैं और अगर ये प्यार तुम्हे मिल गया हैं 

तो इसे पकड़ लो, जकड लो, गले लगा लो 

और जहां कही भी मौका मिले बस इसे कहते रहो

कि तुम उसे कितना प्यार करते हो

क्योंकि ऐसी मोहब्बत से मुलाक़ात होने में ज़िन्दगी का एक काफी लम्बा अरसा बीत जाता हैं…..

– Yahya Bootwala


                

Leave a Comment

error: Content is protected !!